रविवार, 28 फ़रवरी 2010

कितना सुन्दर

कितना सुन्दर है ये जीवन ,मेरे मन !
*
घूम के आतीं जो ऋतुओं के साये
पत्ते उड़ाती भागती हवाये ,
कभी बरसात कभी धूप की तपन
*
घेरे हुये घरती गगन की बाहें .
चूमती पग-पग बढ़ती हुई राहें
साथ में चले जो कोई हो मगन !
*
कहीं कंकरों के दाँव पाँवों तले
नर्म माटी की छुअन भी मिले
कभी हँसी खिले कभी मिले यहां गम !
*
चला आता हँसता त्यौहार का मौसम .
पतझर आया आयगा बहार का मौसम
*

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ.nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं